नया गांव मोरल कहानी, New village hindi stories with moral

New village hindi stories with moral | Hindi stories

नया गांव मोरल कहानी : hindi stories with moral, यह मोरल कहानी (hindi stories with moral) एक नये गांव की है, यह मॉरल कहानी (moral kahani) आपको पसंद आएगी यह नया गांव (village hindi stories with moral) अभी बसा नहीं था उसके बारे में सोचा जा रहा था, उनका पुराना गांव (New village hindi stories with moral) अब अच्छी हालत में नहीं था क्योकि जब बारिश बहुत अधिक हुई तो वह गांव पानी में पूरी तरह से डूब गया था उसे फिर से बसाया जा सकता था मगर दुबारा फिर से उस हानि का सामना न करना पड़े इसलिए उस बारे में न सोचते हुए नए गांव का बसाना चाहिए यही बात सभी लोग विचार रहे थे उन में से कुछ लोग सहमत थे कुछ नहीं,

नया गांव मोरल कहानी : hindi stories with moral

hindi stories.jpg

hindi stories with moral

ऐसा तो होता ही रहता है लेकिन आखिरकार सभी लोग नए गांव को बसाने में लग गए थे वह उसे अपने पुराने गांव से अलग बनाना चाहते थे जिससे उन्हें फिर से वही हानि नहीं होने पाए, मगर यह काम बहुत आसान नहीं था, काम बहुत मुश्किल था जिससे आसान बनाना था उन्ही गांव में एक आदमी ऐसा अभी था जो ऐसा नहीं करना चाहता था क्योकि वह गांव का हमेशा बुरा ही चाहता था वह इस बात को सोचता था की गांव का बुरा यही होना चाहिए इस गांव ने मुझे परेशानी में डाला है,

New village hindi stories with moral :- 

यह बात उस समय की थी जब वह आदमी गवा में बहुत अच्छी तरह से रहता था सभी लोग उसे पसंद किया करते थे मगर एक दिन ऐसा हुआ था, जिस घर में चोरी हुई थी उस घर के सामने वह सुबह के समय बैठा मिला था उसके बाद सभी ने उसे चोर समझ लिया था जबकि उसके पास कोई भी सामान नहीं मिला था इस पर गांव वालो ने यही कहा था की यह सामान वह अपने साथी के पास रखा होगा उसने बहुत बार कहा था की उसकी कोई भी गलती नहीं है उसने ऐसा नहीं किया था मगर कोई भी बात नहीं मान रहा था

 

तभी से उसके मन में सभी के लिए नफरत हो गयी थी वह यही सोचता था की जब कोई मुझे अपना नहीं मानता है तो मुझे किसी से कोई मतलब नहीं है वह यही सोचा करता था की गांव वाले मुसीबत में पड़ जाये तो अच्छा होगा वह किसी का भी भला नहीं चाहता था यह कहानी उस आदमी की थी जैसा की सभी लोग नये गांव को बनाने में लगे थे, उन्हें काफी समय लगने वाला था वह आदमी भी अपनी जगह तलाश रहा था जिससे अपना घर तैयार कर सके,    

 

कुछ समय बाद ही वह सभी गांव वाले उस आदमी के पास आते है और कहते यही की तुम्हे हमारे पास कोई मकान नहीं बनाना है तुम्हे अलग रहना होगा क्योकि तुमने चोरी की है उस आदमी ने फिर से कहा की मेने कुछ नहीं किया है तुम ऐसा क्यों कह रहे हो, सभी ने कहा की हमने तुम्हे देखा था तुम उस घर के पास बैठे थे जिसमे रात को चोरी हुई थी मगर वह उन्हें समझकर परेशान हो गया था कोई बात नहीं मान रहा था, कुछ दिन बड़ा ही घर तैयार हो गए थे

 

तभी वहा से बहुत पहुंचे हुए एक साधू जी आते है वह बहुत पहुंचे हुए थे वह सब कुछ बता सकते थे, उन्हें देखते ही सभी लोग उनकी और आने लगे थे वह साधू जी प्रणाम करने लगे थे उन्हें बिठया और कहा की आप बहुत अच्छे समय पर आ गये है, हमने अभी नये घर बनाये है वह गांव तो पूरी तरह से नष्ट हो गया था अब हमने नया गांव बसाया है साधू जी सभी घर को देखते है मगर एक घर अलग क्यों नज़र आ रहा है वह लग क्यों है जबकि सभी घर तो पास में बने हुए है   

 

सभी लोग कहते है की वह चोर है उसका घर हमने अलग ही रखा है साधू जी उससे मिलते है और कहते है की मुझे उससे बात करनी है उस आदमी को बुलाया जाता है साधू जी उसे देखते है और कहते है की यह चोर नहीं है में साफ़ देख सकता हु की इसने चोरी नहीं की है सभी लोग यह बात सुनकर चुप हो जाते है वह आदमी कहता है की में भी इन्हे यह बात कहकर परेशान हो गया हु की मेने कोई चोरी नहीं की है मगर कोई मनाता नहीं है

कहानी का मोरल : Moral of the story

साधु जी कहते है की आप सभी लोग बहुत साल से इस आदमी को जानते है मगर कोई इसे पहचान नहीं पाया है यह चोर नहीं है यह तो उस समय उस मकान के पास बैठा था चोरी करने वाले तो पहले ही जा चुके थे साधु जी सब कुछ देख सकते है यह बात सुनकर सभी लोग परेशान हो जाते है क्योकि उन्होंने उसे चोर कहा था साधू जी कहते है की जीवन में एक गलत फैसला बहुत कुछ गलत कर सकता है उसके बाद वह आदमी उन्ही के साथ में रहने लगता है.

नया गांव दूसरी कहानी : hindi stories with moral

हम इस नए गांव में आ तो गए है मगर हमे यहां पर कोई नहीं जानता है हमे चलकर उससे पूछना चाहिए तभी हमे पता चल पायेगा की जिसके पास हम आये है वह कौन से घर में रहता है उस सामने वाले आदमी से पूछना चाहिए वह दोनों उसके पास आते है और उससे बात करते है, वह आदमी उनकी और देखता है और कहता है की आप कहा ऐसे आये है

 

वह कहते है की हम काफी दूर से आये है और हमे बताया गया है की यह नया गांव है हमे एक आदमी के घर जाना है अगर आप उसका पता बता देते है तो बहुत अच्छा होगा वह आदमी कहता है की जिनके यहां पर आप जाना चाहते है वह अब इस गांव में नहीं रहते है, मुझे अच्छे से याद है कुछ ऐसा हुआ था जिसकी वजह से वह गांव को छोड़कर चले गए थे उसके बाद किसी ने भी उन्हें नहीं देखा है आपको तो यहां पर उनकी कोई जानकारी नहीं मिल पाएगी,

 

आप बहुत दूर से आये है आपको कुछ देर आराम करना चाहिए आप तक गए होंगे इसलिए आप आराम करे वह आदमी अपने घर ले जाता है और उनके लिए खाना भी बनवाता है वह दोनों पूछते है की ऐसा क्या हुआ था जिसकी वजह से उन्हें जाना पड़ा था बहुत समय पहले से ही उनका बेटा एक लड़की को पसंद करता था यह बात सभी को पता चल गयी थी जब सबको पता कहली तो उन्होंने कहा की इस गांव से अपने लड़को को निकाल देना होगा

कहानी का मोरल : Moral of the story

अगर ऐसा नहीं करते है तो आपको यहां से जाना होगा उनका एक ही लड़का था इसलिए वह उसे निकाल नहीं सकते थे गांव को छोड़कर जाना पड़ा था यह फैसला अच्छा नहीं था उनका एक ही बेटा था उसे कैसे घर से निकाल सकते है उनके साथ बहुत बुरा हुआ था अब पता नहीं है की वह किस जगह पर रहते है उसके बाद दोनों आदमी वापिस चले जाते है कुछ बाते हम लोग सही नहीं मानते है और उनसे गलत फैसले लेते है उनके साथ भी ऐसा ही हुआ था, गांव की मोरल कहानी, hindi stories with moral, hindi stories, अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है तो शेयर जरूर करे

Read more hindi stories :- 

दोस्ती की एक नयी कहानी

कामयाबी के रास्ते हिंदी मॉरल कहानी

एक धार्मिक कहानी

नया गांव मोरल कहानी

एक सच्ची दोस्ती क्या होती है

नई दुनिया की हिंदी कहानी

गरीब कौन मोरल कहानी

छोटी मोरल कहानी

एक अच्छे लड़के की कहानी

अपनी हिम्मत की हिंदी स्टोरीज

पहली मुलाक़ात स्टोरीज इन हिंदी

गोल्डन पेड़ की हिंदी कहानी

आलसी लड़के की हिंदी कहानी

एक पुराने घर की कहानी

मेरा सपना नई हिंदी कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *