lomdi aur sher ki kahani and new lomdi ki kahani | लोमड़ी और शेर की नई कहानी

Lomdi aur sher ki kahani and new lomdi ki kahani

lomdi aur sher ki kahani, लोमड़ी और शेर की नई कहानी, लोमड़ी को ऐसा लगता था कि अगर शेर से उसकी दोस्ती हो जाती है तो उसके लिए बहुत अच्छा होगा सभी जानवरों लोमड़ी से डरेंगे और कोई भी लोमड़ी (lomdi ki kahani) का सामना नहीं कर पाएगा यह बात सोच कर वह शेर के पास जाने की कोशिश करती है

lomdi aur sher ki kahani : लोमड़ी और शेर की नई कहानी

lomdi aur sher ki kahani

lomdi aur sher ki kahani

मगर lomdi को यह बात भी याद रहती है कि अगर sher ने उस पर हमला कर दिया तो lomdi उस से कैसे बच सकती है मगर sher से दोस्ती करनी है तो इन बातों पर विचार नहीं करना चाहिए इसलिए lomdi यह बात सोच कर आगे बढ़ती है sher के पास पहुंच जाती है शेर कहता है कि तुम मेरे पास क्यों आई हो

 

lomdi कहती है कि मैं आपकी मदद के लिए आई हूं आप शिकार करके हमेशा थक जाते हैं इसलिए मैंने सोचा कि आप आराम करेंगे और मैं शिकार करके आपके लिए लेकर आऊंगी जिससे आपको शिकार करने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी sher कहता है कि तुम्हारे विचार तो अच्छे लग रहे हैं मुझे ऐसा लगता है कि तुम्हारी बात मुझे मान लेनी चाहिए क्योंकि मैं भी शिकार करके थक जाता हूं इसलिए sher ने कहा कि आज से तुम मेरे साथ हो

 

मेरे लिए तुम दिन में दो बार भोजन लेकर आओगी लोमड़ी को बहुत अच्छा लग रहा है क्योंकि शेर ने उसकी बात मान ली थी lomdi सभी जानवरों से यही कहती थी कि मेरे साथ शेर है अगर किसी ने भी मुझसे कुछ भी कहा तो मैं sher से तुम्हारी शिकायत कर दूंगी और तुम नहीं बच सकते यह बात सुनकर सभी जानवर डर जाते हैं क्योंकि वह जानते हैं कि शेर अगर lomdi के साथ है तो वह कुछ नहीं कर पाएंगे

 

lomdi ने sher की कुछ दिन सेवा की लेकिन लोमड़ी भी बार-बार शेर के लिए भोजन लाकर थक चुकी थी और वह सोच रही थी कि इस तरह तो शेर आराम से बैठा रहेगा और वह शिकार पर भी नहीं जाएगा और मुझे तो शेर से कोई फायदा भी नहीं हो रहा है तभी lomdi के पास गधा आता है और कहता है कि तुमने शेर से दोस्ती तो कर ली है मगर यह शेर किसी काम का नहीं है

 

sher शिकार करने के लिए उठता है और कोई भी काम इसे नहीं है lomdi इस बात को समझ गई थी कि गधा सही कह रहा है क्योंकि जब से मैंने sher से दोस्ती की है शेर अपनी गुफा से बाहर ही नहीं निकलता है और मुझे भोजन लाने के लिए हमेशा दूर दूर तक जाना पड़ता है यह दोस्ती मेरे काम की नहीं है लोमड़ी उसका साथ छोड़ देती और वहां से चली जाती है

lomdi aur sher ki kahani | lomdi ki kahani

क्योंकि lomdi यही चाहती थी कि शेर भी उसके साथ हमेशा रहे मगर शेर ऐसा नहीं हो सकता था लोमड़ी की कही बातों के अनुसार शेर गुफा में रहता था और sher बाहर ही बहुत कम निकलता है अगर आपको यह कहानी (lomdi aur sher ki kahani and new lomdi ki kahani) पसंद आई है तो आगे भी शेयर करें कमेंट करके हमें बताएं

Read More story in hindi :-

परियों की कहानी

भूखा शेर हिंदी कहानी

दो खरगोश और शेर की कहानी

अकबर बीरबल की तीन कहानी

अच्छे पेड़ की पंचतंत्र हिंदी कहानी

बच्चों की अच्छी कहानी

जादुई चक्की की अच्छी कहानी

चूहे और बिल्ली नयी पुरानी की कहानी 

घर की आवाज बच्चों की कहानी

राजकुमारी और जादूगरनी की नयी कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *