पहली मुलाक़ात स्टोरीज इन हिंदी, First meeting new stories in hindi

First meeting new stories in hindi | Hindi stories

पहली मुलाक़ात स्टोरीज इन हिंदी : First meeting new stories in hindi, यह कोई पहली मुलाकात (hindi stories) नहीं थी मगर मुझे ऐसा लगता है की हो सकता है मुझे याद नहीं है मुझे तो पहली मुलाक़ात (First meeting) लग रही थी वह पहली बार वही पर खड़ा हुआ था, उसे देखकर ऐसा लगता था की वह छोटा भाई है क्योकि जब उसे देखा तो उसकी थोड़ी शक्ल मेरे छोटे भाई से मिल रही थी, जोकि अब हमारे साथ नहीं रहता था शायद उसे हमारे रिश्ते की कोई कदर नहीं है इसलिए वह अलग ही रहता है एक बार तो ऐसा लगा था की शायद वह हमसे मिलने आया था.

पहली मुलाक़ात स्टोरीज इन हिंदी : new stories in hindi

hindi stories.jpg

First meeting new stories in hindi

मगर जब पास जाकर देखा तो ऐसा नहीं था वह कोई और था मगर उसकी शक्ल ऐसी ही लग रही थी जब उसके पास गया तो पता चल गया था की वह कोई और है अब उससे कुछ नहीं बोला था, लेकिन उसने पूछ ही लिया था, की में उसके पास क्यों आया हु वह कहने लगा की तुम्हे मुझसे कोई काम है उसकी बता का जवाब मेरे पास नहीं था क्योकि मुझे काम नहीं था मगर उसकी शक्ल मिलने से ऐसा ही हुआ था वह बहुत ही सज्जन लग रहा था उसने कहा की मुझे ऐसा लगता है की तुम काफी परेशान हो गए हो,

First meeting new stories in hindi :-

यह मेरे सवाल की वजह से से तो नहीं हुआ है क्योकि मुझे तुम परेशान लग रहे हो, उसके पूछने पर ऐसा ही लग रहा था की शायद उसे बता देना चाहिए क्योकि वह मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था उसकी बातें भी अच्छी थी, उसके बाद हम दोनों एक जगह पर बैठ गए थे यह बात काफी समय की है जब हम दोनों भाई साथ में रहते थे कुछ समय तक तो सब अच्छा चल रहा था मगर कुछ दिन बाद ही छोटे भाई की शादी हो गयी थी उसके बाद वह बदल चूका था

 

अब वैसा व्यवहार नहीं था जैसा की पहले चल रहा था वह बिलकुल बदल चूका था और एक दिन ऐसा भी आया था जब वह अपने घर के हिस्से की बात करने लग गया था यह बात सुनकर पिताजी बहुत गुस्सा भी हुए थे मगर क्या किया जा सकता था क्योकि अब उसके सोचने के सभी ढंग बदल गए थे अब ऐसा माहौल नहीं था जैसा की पहले थे जब पिताजी ने कहा की यह सब अच्छा नहीं लगता है कल की बात है तुम्हारी शादी हुई थी आज तुम अपने हिस्से की बात करते हो जबकि यह सबा तुम्हारा ही है

 

मगर वह सुनने को तैयार नहीं था और ऐसा हुआ था की वह घर छोड़कर चला गया था उसने कुछ नहीं पूछा और बिना कहे ही चला गया था उसके बाद वह कभी भी नहीं आया था शायद यह अच्छा नहीं हुआ था तब से आज तक सभी परेशान रहते है ऐसा तो कुछ भी नहीं था मगर जो हुआ था अच्छा नहीं हुआ था तुम्हारी शक्ल भाई से मिलती है मुझे लगा की तुम वापिस आ गए हो, यही सोचकर तुम्हारे पास आ गया था और कोई बात नहीं है यह बात सुनकर वह आदमी कहें लगा की अगर तुम्हे लगता है की मुझे देखकर तुम्हारे भाई की कमी दूर होती है तो आज से में तुम्हारा भाई हु

कहानी का मोरल : 

यह बात सुनकर अच्छा तो लग रहा था मगर सच यह है की वह उसकी असली भाई नहीं था आँखों में इंतज़ार आज भी उसका ही रहेगा उम्मीद है की एक दिन वह वापिस आएगा जब तक है इंतज़ार करते रहेंगे एक दिन तो उसे भी याद आएगी शायद वह दिन बहुत अच्छा होगा, पहली मुलाक़ात स्टोरीज इन हिंदी, (new stories in hindi), (hindi stories), अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है तो शेयर जरूर करे और हमे भी बताये.

Read more hindi stories :- 

दोस्ती की एक नयी कहानी

कामयाबी के रास्ते हिंदी मॉरल कहानी

एक धार्मिक कहानी

नया गांव मोरल कहानी

एक सच्ची दोस्ती क्या होती है

नई दुनिया की हिंदी कहानी

गरीब कौन मोरल कहानी

छोटी मोरल कहानी

एक अच्छे लड़के की कहानी

अपनी हिम्मत की हिंदी स्टोरीज

गोल्डन पेड़ की हिंदी कहानी

आलसी लड़के की हिंदी कहानी

एक पुराने घर की कहानी

मेरा सपना नई हिंदी कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *