Akbar birbal stories in hindi- अकबर बीरबल और फल की खेती

Akbar birbal stories in hindi

Akbar birbal stories in hindi : अकबर बीरबल और फल की खेती, अकबर और बीरबल आज सभी लोगो से सभा में बात कर रहे थे क्योकि सभी लोग आज परेशान लग रहे थे उनकी परेशानी का कारण क्या हो सकता है यह बात जानने के लिए अकबर और बीरबल उनकी बात सुन रहे थे उसके बाद सभी लोगो की समस्या जब अकबर और बीरबल ने सुनी तो वह कहने लगे की आप परेशान न हो, बीरबल इस बारे में जल्द ही कुछ करंगे,

 अकबर बीरबल और फल की खेती : Akbar birbal stories in hindi

"<yoastmark

उसके बाद बीरबल (birbal) को बुलाया जाता है क्योकि अकबर (akbar) यह नहीं चाहते थे की कोई भी आदमी परेशानी का सामना करे, बीरबल (birbal) कहते है की हम उनकी बात समझ गए है उनकी समस्या को जल्द ही दूर किया जाएगा मगर अकबर (akbar) यह बात भी नहीं जानते थे की यह सब कुछ कैसे हो रहा है वह यह सब कुछ जानना चाहते थे मगर अभी उनके पास कुछ भी जवान नहीं था सभी का कहना यही था की हमारे खेत से फल अचनाक ही गायब हो गए रहे है

 

उन्हें यही लगता है की इनके पीछे कोई इंसान ऐसा है जो यह नहीं चाहता है की हमारे खेत में एक भी फल रहे इससे हमारा बहुत नुकसान हो सकता था पहले तो सभी किसान यही बता सोच रहे थे की यह सब कुछ जानवर ने किया है मगर जब सब कुछ पता लगाया गया तो कुछ भी ऐसा नहीं था, किसी भी जानवर ने ऐसा नहीं किया था मतलब यह कुछ और बता थी तभी सब मिलकर अकबर और बीरबल (akbar and birbal) के पास गए थे जिससे सब कुछ पता चल पाये 

 

अकबर ने यह काम बीरबल को दे दिया था जिससे वह सब कुछ पता लगा सके बीरबल को कुछ भी समझ नहीं आ रहा था वह खेत में रात भर पहरा दे रहे थे जिससे सच का पता चल पाये क्योकि अब सिर्फ एक ही खेत बचा था जिस पर फल लगे हुए थे बीरबल पहरा दे रहे थे तभी कुछ आदमी उस खेत की और आते है और बीरबल छुप जाते है, वह देखते है की क्या हो रहा है,

 

कुछ देर बाद ही सभी फल तोड़ लिए जाते है वह यही बात कर रहे थे की किसी को यह पता नहीं चलना चाहिए की फल कौन तोड़ रहा है यह पड़ोसी राज्य के राजा ने ध्यान देने के लिए कहा था अब सब कुछ समझ आ जाता है बीरबल उनके सामने आते है और सैनिक को बुलाते है वह पकड़े जाते है और अगले दिन राजा के सामने पेश किये जाते है अब राजा को पता चल जाता है की यह सब काम किसका है

 

इस तरह बीरबल की वजह से यह सब कुछ होता है अब अकबर को पता चल जाता है की इस समस्या का कारण क्या था, क्योकि वह राजा यह नहीं चाहता था की इस बार की फसल बहुत अच्छी हो पाए, यह सब कुछ राजा बीरबल की वजह से हुआ था अगर वह अपनी कोशिश न करते तो ऐसा नहीं हो सकता था इस तरह बीरबल को इनाम दिया जाता है अकबर इस बात को जानते है की बीरबल सब कुछ कर सकते है, 

 

अकबर और उनके मित्र दूसरी कहानी : akbar birbal stories in hindi

अकबर बीरबल (akbar birbal) आज नगर में सेर पर निकल रहे थे तभी सेनापति आता है और कहता है की आप नगर की और जा रहे है मुझे भी आपके साथ में जाना चाहिए तभी अकबर (akbar) कहते है की आपको जाने की जरूरत नहीं है आपकी जरूरत महल में है हम किसी ख़ास के यहां पर जा रहे है जिनसे मिले हुए बहुत समय हो गया है बीरबल (birbal) भी समझ नहीं पाते है की अकबर किस जगह पर जाना चाहते है,

 

बीरबल अकबर से पूछते है मगर अकबर नहीं बताते है क्योकि वह कहते है की आप कुछ देर तक इंतज़ार करे आपको पता चल जाएगा की हम किसके पास जा रहे है कुछ देर बाद वह दोनों एक मकान के पास जाते है उसके बाद एक आदमी घर में से निकलता है और देखता है की अकबर आये है वह दोनों को अंदर बुलाता है और उनकी खातिर करता है क्योकि पहली बार अकबर और बीरबल उनके घर आये थे

 

उसके बाद वह आदमी कहता था की आप मेरे यहां पर आये है इससे बड़ी ख़ुशी की बात क्या हो सकती है मुझे तो अभी भी यकीन नहीं हो रहा है क्योकि आप बहुत बड़े राजा है और में बहुत छोटा आदमी हु तभी अकबर कहते है की ऐसी बात नहीं सोचनी चाहिए क्योकि तुम हमारे मित्र हो जबकि तुम्हे हमारे महल में आना चाहिए था मगर तुम मुझसे मिलने नहीं आये हो, वह आदमी कहता है की ऐसी बात नहीं है में तो इसलिए नहीं आया था क्योकि अगर में आता है तो सभी को लगता की एक छोटा आदमी राजा का मित्र कैसे हो सकता है

 

तभी अकबर कहते है की यह बात तुम्हे नहीं सोचनी चाहिए हम मित्र है इसमें बड़ा और छोटा नहीं होता है दोस्त हमेशा साथ रहते है मित्रता में कोई बड़ा छोटा नहीं होता है यह विचार सुनकर वह आदमी बहुत खुश हो जाता है क्योकि एक राजा यह बात कह रहा था उसके बाद उनके लिए भोजन आता है अकबर और बीरबल दोनों भोजन करते है उसके बाद महल वापिस आते है जब दोनों महल आते है तो बीरबल पूछते है की आपने मुझे रास्ते में नहीं बताया था की हम कहा जा रहे है

Akbar Birbal stories in hindi

तभी अकबर कहते है की मेने इसलिए नहीं बताया था की आप वही चलकर देख सकते है की हम किनके घर जा रहे है बीरबल ने कहा की आपके विचार मुझे बहुत पसंद आये है क्योकि आप मित्रता में कोई भी भेदभाव नहीं करते है इस तरह दोनों बाते करते हुए महल पूछ जाते है, akbar birbal stories in hindi, अकबर और उनके मित्र दूसरी कहानी, अगर आपको यह अकबर और बीरबल की कहानी पसंद आयी है तो शेयर जरूर करे

 

अकबर बीरबल और कौवा की कहानी : akbar birbal stories in hindi

बीरबल (birbal) जी के पास एक सैनिक आता है और वह कहता है की मुझे आपकी सहायता चाहिए आप ही मुझे मेरी समस्या से बचा सकते है बीरबल (birbal) जी कहते है की ठीक है पहले यह बताओ की तुम्हे क्या परेशानी है सैनिक कहता है की मुझे कल से यह बता परेशान कर रही है की कल मेने अकबर (akbar) के सामने रखे हुए सामान को नहीं तोडा है मगर अकबर (akbar) इस बात को नहीं मान रहे है वह मुझे कल सजा देंगे जबकि मेने वह सामान नहीं तोडा है

 

बीरबल कहते है की पहले मुझे पूरी बात बताये की क्या हुआ था वह सैनिक कहता है की कल की बात है राजा ने मुझे बुलाया था और कहा तुम कमरे में चलो में अभी आता हु जब में कमरे में गया था तो राजा का वह सामान टुटा हुआ था जब राजा आये तो वह कहने लगे की यह तुमने किया है जबकि मेने मना कर दिया था मगर अकबर नहीं मान रहे है वह कहते है की तुम झूट बोल रहे हो जबकि कुछ देर पहले ही अकबर (akbar) उस जगह से आये थे तब तक सब ठीक था

 

तभी बीरबल कहते है की ठीक है यह बताओ की खिड़की उस समय खुली हुई थी सैनिक कहता है की मेने देखा था की खिड़की खुली थी अब बीरबल (birbal) सब कुछ समझ जाते है की वह कांच का सामान कैसे टूट गया था अगले दिन बीरबल अकबर से मिलते है और कहते है की आपने एक सैनिक को कल यहां पर देखा था और उसे सजा भी सुनाने जा रहे है तभी अकबर (akbar) कहते है की आप क्या कहना चाहते है बीरबल (birbal) कहते है की उस सैनिक ने कुछ नहीं किया है

 

लेकिन अकबर कहते है की पहले साबित करो तभी हम बता को मानेगे बीरबल एक कांच की वस्तु रखकर छिप जाते है और अकबर भी वही पर छिप जाते है कुछ देर बड़ा ही खिड़की से एक कौवा आता है और वह उस कांच में अपनी चोंच लगाता है और कुछ देर बाद ही वह कांच की वस्तु टूट जाती है और अब अकबर को समझ आता है की उस सैनिक ने कुछ नहीं किया था अकबर बीरबल (birbal) से कहते है की आपने सैनिक को बचा लिया

akbar birbal stories in hindi

इस तरह बीरबल (birbal) की वजह से वह सैनिक बच जाता है और सैनिक कहता है की अपने यह सब कुछ मेरे लिए किया है बीरबल कहते है की जब तुमने कुछ किया ही नहीं है तो परेशान होने की जरूरत नहीं है, अकबर बीरबल और कौवा की कहानी, (akbar birbal stories in hindi) अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है तो शेयर जरूर करे

Read More kids story in hindi :-

परियों की कहानी

भूखा शेर हिंदी कहानी

दो खरगोश और शेर की कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *